Menu Close

Showing all 8 results

  • 400.00

    जीबन स्वयं एक उत्सव होता है। यह तथ्य आज के आधुनिक समाज में बिखर सा गया है। शायद यही कारण है कि आज निरंतर बड़े…

  • 350.00

    गोदना महज़ कला और श्रृंगारिक आभूषण नहीं है। वास्तव में यह सौंदर्य, आस्था, विश्वास और परंपरा से उपजे ‘संस्कार’ हैं….। गोदना कला जनजातीय समाज की…

  • 2,000.00

    प्रकृति की गोद में रहने वाली बैगा जनजाति जंगलों, पहाड़ों, नदी, तालाब, झरने, पशु-पक्षी तथा निसर्ग के अन्य उपादानों को करीब से देखती है। इन…

  • 1,000.00

    Few states in modren India can claim to have a living link with the past traditions as Madhaya Pradesh hasm because of the strong, presences…

  • 2,000.00

    उदयन वाजपेयी की यह पुस्तक कई ऐसी बातों को सामने ले आती है जिनको छिपाना ही समकालीन बौद्धिक का सही काम माना जाता है। लेकिन…

  • 400.00

    यह निर्विवाद है कि जनजातीय समाज अपने स्वभाव से ही संस्कृति, परंपरा और प्रकृति की धरोहर को राहेजते-संवारते रहे हैं और यह भी कि चाहे…

  • 400.00

    यह निर्विवाद है कि जनजातीय समाज अपने स्वभाव से ही संस्कृति, परंपरा और प्रकृति की धरोहर को राहेजते-संवारते रहे हैं और यह भी कि चाहे…

  • 1,000.00

    in the middle of India lies a vast land peopled with one of the country’s largest tribal populations. Considered as the original inhabitants of this…